Important National Parks, Wildlife Sanctuaries and Tiger Reserve in India

0 13

National Parks, Wildlife Sanctuaries and Tiger Reserve in Hindi

प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान , वन्यजीव अभयारण एवं टाइगर रिज़र्व

राष्ट्रीय उद्यान (National Park)– वनस्पति और जीवों की रक्षा के साथ साथ ऐतिहासिक व् सांस्कृतिक परिदृश्य के महत्वपूर्ण स्मारकों के संरक्षण हेतु बनाये जाते है, राष्ट्रीय उद्यान में बड़ी मात्रा में संरक्षण प्राप्त है, इसमें मानव गतिविधियाँ मुख्यंत प्रतिबंधित रहती है।

प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान (National Parks)

काजीरंगा नेशनल पार्क

  • यह नेशनल पार्क असम में स्थित है।
  • इसे दो डिविजनों में बाँटने का नोटिफ़िकेशन जारी किया गया था,
  • पहला डिवीजन ईस्टर्न असम वाइल्डलाइफ, दूसरा बिस्वनाथ वाइल्डलाइफ
  • ब्रह्मपुत्र नदी इन दोनों डिवीजनों को अलग करती है।
  • यह एक सिंग वाले गैंडे के लिए प्रसिद्ध है।
  • इसे यूनेस्को की world Heritage site में शामिल किया गया है।

कंचनजंघा नेशनल पार्क – Kanchanjangha National पार्क

  • यह नेशनल पार्क सिक्किम में स्थित है।
  • यह भारत का पहला मिश्रित विश्व विरासत स्थल है।
  • Mount कंचनजंघा : विश्व की तीसरी सबसे ऊँची चोटी है
  • जेमू ग्लेशियर सहित कई तलब और आँय ग्लेशियर इस पर्वत चोटी पर स्थित है।
  • इसे यूनेस्को की world Heritage site में शामिल किया गया है।

केईबुल लामजाओ राष्ट्रीय पार्क

  • यह नेशनल पार्क मणिपुर में स्थित है।
  • यह विश्व का एकमात्र तैरता हुआ उद्यान है।
  • केईबुल लामजाओ राष्ट्रीय पार्क लोकटक झील पर अवस्थित है।
  • झील के लगभग 70% भाग पर फैली घास का मैदान है जिसे फुमडी कहा जाता है।
    यह संगाइ हिरण के लिए प्रसिद्ध है।

दाचीगाम नेशनल पार्क

  • यह नेशनल पार्क जम्मू कश्मीर में स्थित है।
  • यह कश्मीरी हांगुल के लिए प्रसिद्ध है।

जिम कार्बेट नेशनल पार्क

  • यह उत्तराखंड में स्थित है।
  • यह भारत का पहला राष्ट्रीय उद्धयन है।

भीतरकरणिका नेशनल पार्क

  • यह नेशनल पार्क ओड़ीशा के केन्द्रपाड़ा जिले में स्थित है।
  • यह भारत में सबसे बड़े मैग्रोव इको सिस्टम में से एक है।
  • यहाँ समुद्री कछुए, लेपर्ड कैट, फिशिंग कैट, जंगली बिल्ली, लकड़बग्घा, जंगली सूअर, चित्तीदार हिरण, साँभर, डॉल्फ़िन, खारे पानी के मगरमच्छ आदि प्रजातीय पायी जाती है।
  • यह ब्रहन्म्दी, बैतरनी, धामरा और महानदी नदी के एषचूरी पर स्थित है।

जलदापरा नेशनल पार्क

  • यह नेशनल पार्क पश्चिम बंगाल में स्थित है।
  • यह एक सिंग गैंडे के लिए प्रसिद्ध है।
  • यहाँ बाइसन, हिरण, तेंदुए और पक्षियों जैसे प्रसिद्ध ग्रेट बैबील प्रजातियाँ पायी जाती है।

मुकुर्थी नेशनल पार्क

  • यह नेशनल पार्क तमिलनाडू में स्थित है।
  • यहाँ पर नीलगिरी ताहर की बढ़ोतरी देखि गयी है।
  • यह नीलगिरी बायोस्फियर रिजर्व का हिस्सा है।
  • यहाँ संभार, बार्किंग डियर, नीलगिरी मर्टन आदि जीव पाय जाते है।

बनेरघट्टा नेशनल पार्क

  • यह नेशनल पार्क कर्नाटक में स्थित है।
  • इस नेशनल पार्क के आसपास का क्षेत्र मानव-हाथी संघर्ष की दृष्टि में संवेदनशील क्षेत्र है।
    यह बच्चों के लिए बंगलुरु के चंपकधाम पहाड़ियों की घाटी में जंगलों के बीच बना एक प्रसिद्ध जैविक मनोरंजन केंद्र है।

बांदीपुर नेशनल पार्क

  • यह नेशनल पार्क तमिलनाडू के मुदुमलाई वन्यजीव अभयारण्य, केरल के वायनाड वन्यजीव अभयारण्य, और कर्नाटक के ही नागरहोल राष्ट्रीय उद्धयन के साथ मिलकर भारत का सबसे बड़ा बायोस्फीयर रिजर्व (नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व) बनाता है।
    यहाँ गौर (बैल की एक प्रजाति), संभार, चीतल, माउस हिरण, चार सिंग वाले मृग, जंगली सूअर, सियार आदि पाये जाते है।

एरविकुलम नेशनल पार्क

  • यह नेशनल पार्क केरल में स्थित है।
  • यह नीलगिरी ताहर और निलकुरिंजी फूल के लिए प्रसिद्ध है।

अन्नामुडी शोला नेशनल पार्क

  • यह नेशनल पार्क केरल में स्थित है।
  • यह नेशनल पार्क मन्नवन शोला, इदीवारा शोला और पुललारडी शोला से बना हुआ है।
    यहाँ जंगली हाथी, बाघ, पैन्थर, भारतीय बाइसन और नीलगिरी ताहर, फ्लाईंग गिलहरी, स्पौटेड डियर, गौर आदि प्रजातियाँ पायी जाती है।

अंशी नेशनल पार्क

  • यह नेशनल पार्क कर्नाटक में स्थित है।

बन्नी ग्रसलैंड (Banni Grassland)

  • यह नेशनल पार्क गुजरात में स्थित है।
  • यह भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे बड़ा प्राकृतिक घास का मैदान है।
  • यह पाकिस्तान में सिंध के साथ-साथ इसकी भौगोलिक सीमा बलूचिस्तान और अफगानिस्तान के कुछ हिस्सों से लगती है।
  • बन्नी नेशनल पार्क 22 जातीय समुदायों के साथ-साथ “मलधारी” चरवाहों का घर है।

बांधवगढ़ नेशनल पार्क

  • इसका विस्तार मध्य प्रदेश में विंध्य पहाड़ियों में है।
  • इस नेशनल पार्क में भारत का सबसे अधिक बाघ जनसंख्या घनत्व है।
  • यह नेशनल पार्क रॉयल बंगाल टाइगर्स के लिए प्रसिद्ध है।
  • वर्तमान में सफ़ेद बाघ के लिए एक प्रसिद्ध प्राकृतिक आवास है।

कुछ अन्य नेशनल पार्क

  • नामदफा नेशनल पार्क – अरुणाचल प्रदेश
  • मानस नेशनल पार्क – असम
  • दुधवा नेशनल पार्क – उत्तर प्रदेश

प्रमुख वन्यजीव अभयारण्य(Wildlife Sanctuaries)

वन्यजीव अभयारण्य– जानवरों की विशेष प्रजातियों की रक्षा के लिए बनाए जाते है, वन्यजीव अभयारण्य में पशुचारण जैसी मानवीन गतिविधियों की अनुमति दी जा सकती है।

नन्धौर वन्यजीव अभयारण्य

  • इसका विस्तार उत्तराखंड के नैनीताल और चंपावत जिलों में है।
  • इसे बाघों की बढ़ती संख्या के चलते Tiger Reserve का दर्जा दिये जाने की चर्चा भी की गयी है।
  • नन्धौर क्षेत्र तराई आर्क लैंडस्केप (TAL) के तहत है।
  • नन्धौर क्षेत्र गोला और शारदा नदियों के बीच स्थित है, इस क्षेत्र से नन्धौर नदी गुजरती है।

लिपा –असरा(Lippa-Asara) वन्यजीव अभयारण्य

  • यह हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में स्थित है।
  • यहाँ पर स्नो लेपर्ड भी देखा गया था।

फकीम वन्यजीव अभयारण्य

  • यह नागालैंड में स्थित है।
  • इस वन्यजीव अभयारण्य के फॉरेस्ट गार्ड अलेंबा यीमचुंगर को वर्ष 2019 में Earth Day Network Award अवार्ड मिला था।

तृष्णा वन्यजीव अभयारण्य

  • यह त्रिपुरा में स्थित है।
  • राष्ट्रीय वन्यजीव बोर्ड ने ONGC को तृष्णा गैस प्रोजेक्ट के लिए मंजूरी दी गयी।
    यह प्रोजेक्ट तृष्णा वन्यजीव अभयारण्य में प्राकृतिक गैस निकालने से संबंधित है।
    गौर या इंडियन बाइसन, हुलाक गिबन, कैप्ड लंगूर और गोल्डेन लंगूर इत्यादि प्रजातियाँ पायी जाती है।

गुमती (Gumti) वन्यजीव अभयारण्य

  • यह त्रिपुरा के गुमती और धेलाई जिलों के बीच स्थित है।
  • यह त्रिपुरा का सबसे बड़ा वन्यजीव अभयारण्य है।
  • हाथी, बाइसन, संभार, बार्किंग हिरण, जंगली बकरी इत्यादि प्रजातियाँ पायी जाती है।

पक्के (Pakke) वन्यजीव अभयारण्य

  • इसे पखुई वन्यजीव अभयारण्य नाम से भी जाना जाता है।
  • यह अरुणाचल प्रदेश के पूर्वी कमेंग जिले में स्थित है।
  • इसकी दक्षिणी सीमा असम और अरुणाचल प्रदेश के बीच की राज्यीय सीमा से मिलती है।
  • इस क्षेत्र का सरक्षित भाग पक्के और कमेंग नदियों के भूभाग के भीतर आता है।
  • यहाँ बार्किंग हिरण, हौग हिरण और होर्नबील इत्यादि प्रजातियाँ पायी जाती है।

वायनाड वन्यजीव अभयारण्य

  • यह केरल में स्थित है।
  • यह तमिलनाडू के मुदुमलाई वन्यजीव अभयारण्य, कर्नाटक के बांदीपुर नेशनल पार्क, और कर्नाटक के नागरहोल नेशनल पार्क के साथ मिलकर भारत का सबसे बड़ा बायोस्फीयर रिजर्व (नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व) बनाता है।
  • यहाँ हाथी, गौर, बाघ, तेंदुआ, संभार, चित्तीदार हिरण, बार्किंग हिरण, जंगली सूअर, नीलगिरी लंगूर, मलाबार विशाल गिलहरी आदि प्रजातियाँ पाये जाते है।

परम्बिकुलम वन्यजीव अभयारण्य

  • यह वन्यजीव अभयारण्य केरल में स्थित है।
  • इस वन्यजीव अभयारण्य में परम्बिकुलम, थंकाडावु और पेरुवारीप्पल्लम नमक तीन मानव निर्मित जलाशय है।
  • यहाँ तेंदुआ, हाथी, गौर, चित्तीदार हिरण, संभार, नीलगिरी लंगूर आदि प्रजाति पाये जाते है।

मेगामलाई वन्यजीव अभयारण्य

  • यह वन्यजीव अभयारण्य तमिलनाडू के थेनी और मदुरै जिले में स्थित है।

चांडका डम्पारा वन्यजीव अभयारण्य

  • यह वन्यजीव अभयारण्य ओड़ीशा में स्थित है।
  • यह बाँस में उपजने वाली चावल की एक प्रजाति Bamboo Rice का संचय शुरू होने की वजह से चर्चा में था।

गहिरमाथा समुद्री वन्यजीव अभयारण्य

  • यह वन्यजीव अभयारण्य ओड़ीशा में स्थित है।
  • यह ओलिव रीडले कछुओं के लिए खासा प्रसिद्ध है।

नौरादेही अभयारण्य

  • यह अभयारण्य मध्य प्रदेश में स्थित है।
  • यहाँ नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी से कही गयी अभयारण्य के चीता Re-introduction Project को पुनजीर्वित करने की बात काही गयी है।

भारत के प्रमुख टाइगर रिज़र्व (Tiger Reserve)

  • दुधवा टाइगर रिज़र्व- उत्तर प्रदेश
  • सतकोसिया टाइगर रिज़र्व- ओड़ीशा
  • ओरांग टाइगर रिज़र्व- असम, देश का 49वां टाइगर रिज़र्व
  • कामलांग टाइगर रिज़र्व- अरुणाचल प्रदेश, देश का 50वां टाइगर रिज़र्व
  • सत्यमंगलम टाइगर रिज़र्व- तमिलनाडु
  • मुडुमलाई टाइगर रिज़र्व- तमिलनाडु
  • नगरहोल टाइगर रिज़र्व- कर्नाटक
  • बांदीपुर टाइगर रिज़र्व- कर्नाटक
  • पक्के टाइगर रिज़र्व- अरुणाचल प्रदेश

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.